जानिए कैसा रहेगा आपका जीवन।
अपने जीवन की भविष्यवाणियां पढ़ें।

सूर्य ग्रहण विवरण और राशियों पर प्रभाव

ज्योतिर्विद डी डी शास्त्री
ॐ घृणि सूर्याय नमः..... ज्येष्ठ अमावस्या बृहस्पतिवार 10.जून 2021 को कंकण {स्वल्पग्रास} सूर्यग्रहण होगा,यह ग्रहण भारत वर्ष में सुदूरवर्ती प्रान्त अरुणांचल प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में तथा जम्मू के कुछ प्रांतों {पाक अधिकृत एवं अक्साई चीन} में सूर्यास्त के समय स्वल्पग्रास के रूप में दिखाई देगा,अत्यल्प ग्रासके कारण यह ग्रहण सामान्यता भारत में दृष्टिग्राहय नहीं होगा.इस ग्रहण से 15 दिन पहले 26 मई को साल का पहला ग्रहण चंद्रग्रहण के रूप में लगा था.!

"ग्रासों नादेश्यो अंगुलाल्यो रविन्द्वो:" अर्थात सिद्धांत शस्त्रों में कहा गया हैं कि एक अंगुल अर्थात 10 प्रतिशत से कम ग्रास वाले ग्रहण की अधिक चिंतन मनन नहीं करना चाहिए,चूँकि ग्रहण दृश्य क्षेत्रों में इसका ग्रसमान अधिक से अधिक 03 प्रतिशत होगा,इस लिए इस ग्रहण के विषय में अत्यधिक विचार करना सर्वथा अनुचित ही होगा.!

यह ग्रहण मध्याहन13 बजकर 42 मिनट से आरम्भ होगा तथा सायंकालीन 18 बजकर 41 मिनट पर समाप्त होगा,यह ग्रहण कुल मिलाकर 05 घंटे का होगा,इसे इंग्लैंड,ग्रीनलैंड,यूरोप,कनाडा,एशिया, उत्तरी अमेरिका और रूस में देखा जा सकेगा,भारत में यह ग्रहण अदृश्य रहेगा.!

-:'ग्रहण का सूतक':-
अगर भारत में यह सूर्यग्रहण दिखाई देता तो सूतक काल लगता,लेकिन यह ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा इसलिए न तो यहां सूतक काल मान्य होगा और नहीं धार्मिक आयोजनों में किसी तरह की रुकावट आएगी..! ज्योतिष शास्त्र में सूर्य ग्रहण लगने से 12 घंटे पहले से सूतक काल की गणना की जाती है,इस दौरान कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता,इस दौरान खाना बनाना और खाना भी अच्छा नहीं माना जाता,यहां तक कि सूतक काल के दौरान मंदिरों के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं,लेकिन इस बार ऐसा नहीं होगा,मंदिर आदि धार्मिक स्थलों के कपाट भी बंद नहीं होंगे.!

-:कंकण स्वल्पग्रास सूर्यग्रहण समय:-
-:ग्रहण प्रारम्भ 13:42. बजे से
-:कंकण प्रारम्भ 15:20. बजे से
-:ग्रहण मध्य 16:12. बजे से
-:कंकण समाप्त 17:03.बजे से
-:ग्रहण समाप्त 18:41.बजे से

नोट :- भारत के पूर्वी प्रान्त अरुणांचल तथा उत्तरी प्रान्त जम्मू के जिन भागों में यह ग्रहण सूर्यास्त के समय अल्प समय {थोड़ी देर} के लिए {अधिकतम समय 18 मिनट्स} के लिए अत्यल्प ग्रास के साथ दिखाई देगा.!

-:'ग्रहण का सूतक अर्थात अशुद्ध समय और बचाव':-
सूतक काल में बालकों, वृ्द्ध,रोगी व गर्भवती स्त्रियों को छोडकर अन्य लोगों को सूतक से पूर्व भोजनादि ग्रहण कर लेना चाहिए.तथा सूतक समय से पहले ही दूध,दही,आचार,चटनी,मुरब्बा में कुशा रख देना श्रेयस्कर होता है.ऎसा करने से ग्रहण के प्रभाव से ये अशुद्ध नहीं होते है.परन्तु सूखे खाने के पदार्थों में कुशा डालने की आवश्यक्ता नहीं होती है.!

-:'ग्रहण अवधि में किये जाने वाले कार्य':-
ग्रहण के स्पर्श के समय में स्नान,ग्रहण मध्य समय में होम और देव पूजन और ग्रहण मोक्ष समय में श्राद्ध और अन्न, वस्त्र, धनादि का दान और सर्व मुक्त होने पर स्नान करना चाहिए.!

-:'तीर्थ स्थलों में जल स्नान का महत्व':-
स्नान के लिये प्रयोग किये जाने वाले जलों में समुद्र का जल स्नान के लिये सबसे श्रेष्ठ कहा गया है. ग्रहण में समुद्र नदी के जल या तीर्थों की नदी में स्नान करने से पुन्य फल की प्राप्ति होती है.किसी कारण वश अगर नदी का जल स्नान करने के लिये न मिल पाये तो तालाब का जल प्रयोग किया जा सकता है.वह भी न मिले तो झरने का जल लेना चाहिए. इसके जल श्रेष्ठता में इसके बाद भूमि में स्थित जल को स्नान के लिये लिया जा सकता है.!

-: ग्रहण के समय धारण किये हुए वस्त्र आदि को ग्रहण के पश्चात धोकर व शुद्ध करके ही धारण करने का विचार है.ज्योतिष शास्त्र के अनुसार किसी भी ग्रहण का सौरमण्डल प्रभाव पड़ने के कारण राशियों पर भी असर पड़ता हंर तो आये जानते हैं इस कंकण स्वाल्पग्रास सूर्य ग्रहण का आपकी राशि पर क्या प्रभाव रहने वाला हैं.!

मेष :-
मेष राशि का स्वामी मंगल है.इस राशि के जातक अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें.खान-पान अच्छा रखें.तनाव लेने से बचें.धैर्य के साथ काम करें.कुछ समय के लिए कोई भी बड़ा निर्णय न लें.इस ग्रहण का प्रभाव आपको शुभ फल दे सकता है.विदेश से लाभ के योग हैं. सफलता के नए अवसर प्राप्त होंगे.!

वृष :-
इस राशि में सूर्य ग्रहण लगने के कारण वृष राशि के जातकों को स्वास्थ्य का बेहद ख्याल रखने की जरूरत है.नकारात्मकता से बचें.अपनी लाइफ में पॉजिटिविटी को बढ़ाएं.आने वाले एक महीने तक कोई भी बड़ा फैसला लेने से बचें.व्यवसाय से जुड़े किसी भी काम को कुछ समय के लिए टाल दें.लंबी यात्रा करने से बचें.इस राशि के जातकों को किस्मत का साथ मिलेगा.इसलिए परेशान होने की जरूरत नहीं है.!

मिथुन :-
इस राशि के जातकों के लिए ये सूर्य ग्रहण अच्छे परिणाम लेकर आएगा.खासतौर पर कला, मीडिया आदि क्षेत्रों से जुड़े लोगों के लिए ये फलदायी होगा.जो लोग बित्तीय क्षेत्र में हैं,उनके लिए यह अच्छा समय है.वाणी पर नियंत्रण रखें. वाद-विवाद से बचें.!

कर्क :-
इस राशि के जातकों पर सूर्य ग्रहण का कोई नेगेटिव प्रभाव नहीं होगा.तनाव से बचें.अपने काम पर फोकस बनाए रखें.!

सिंह :-
इस राशि के जातकों को अपनी प्लानिंग धरातल पर और मजबूती से करनी हेगी.किसी भी काम के बारे में रिसर्च करने के बाद ही निर्णय लें.सूर्य ग्रहण के बाद अपनी योजनाओं पर काम करें. इससे आपको सफलता की प्राप्ति होगी.घर-परिवार का सहयोग मिलेगा.!

कन्या :-
इस राशि के जातक स्वास्थ्य का बेहद ख्याल रखें.स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाली चीजों का सेवन करने से बचें.बाहर की चीजें खाने से परहेज करें.मित्रों का सहयोग मिलेगा.!

तुला :-
इस राशि के जातकों को सूर्य ग्रहण से कोई नेगेटिव रिजल्ट नहीं मिलेगा.अपने प्रोफेशन से जुड़े मामलों में मित्रों या परिवार वालों की सलाह जरूर लें.सोच-समझकर किसी कार्य को करें.काम बनेंगे. सफलता की प्राप्ति होगी.!

वृश्चिक :-
इस राशि के जातक व्यर्थ खर्च करने से बचें.खर्चे पर नियंत्रण रखें. क्रोध से बचें.चिड़चिड़ापन अपने ऊपर हावी न होने दें.!

धनु :-
इस राशि वालों के लिए ये सूर्य ग्रहण शुभ फल लेकर आएगा.कार्यों में सफलता मिलेगी.समय आपके लिए अनुकूल है.आलस्य छोड़कर काम पर फोकस करें.!

मकर:-
इस राशि के जातक अपने काम की गति को और बढ़ाएं.अपने ईगो की वजह से किसी भी कार्य को न टालें.मेहनत पर ध्यान दें.अच्छे रिजल्ट की प्राप्ति होगी.घर-परिवार की मदद से आपके काम बनेंगे.!

कुंभ :-
इस राशि के जातक अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखें.अगर किसी से कुछ कहना चाहते हैं तो थोड़े समय के लिए रुक जाएं.प्रोफेशन से जुड़े मामलों में सावधान रहें.अगर जॉब बदलने की सोच रहे हैं तो कुछ समय के लिए टाल दें. नई स्किल्स सीखें. इस सूर्य ग्रहण का आपके ऊपर कोई नेगेटिव प्रभाव नहीं होगा.!

मीन :-
इस राशि के जातकों के लिए ये सूर्य ग्रहण अनुकूल रिजल्ट लेकर आएगा.वाणी पर नियंत्रण रखें.आलस्य छोड़कर अपने कार्यों को तेजी से करें.!

नोट :- अपनी पत्रिका से सम्वन्धित विस्तृत जानकारी अथवा ज्योतिष,अंकज्योतिष,हस्तरेखा,वास्तु एवं याज्ञिक कर्म हेतु सम्पर्क करें...!